image

ऊँची हील ने बदल दी मेरी काया,
पतली स्टिलेटो पहन बड़ा माज़ा आया,
चलते चलते मुझको समझ में आया,
इन चार इंच ने सबको खूब लुभाया।

पहनू चाहें साड़ी या हो जीन्स,
बनती है बात जब पहनू हाई हील्स,
फिगर में आकर हो चल मस्तानी,
मेरी कैट वॉक की तो दुनिया दीवानी।

ऊँची हील ने कुछ यूँ बदली मेरी काया,
भाव न देते थे जो पहले मुझको,
हील की आवाज़ सुन,
उन्होंने भी गौर फ़रमाया।

मेरी चाल देख वो हैरान रह गए,
हम भी शातिर थे,
दुपट्टा लहराते हुए आगे निकल गए,
बहूत की कोशिश मेरे पीछे आने की,
खुले मुह से वो मेरी चाल देखते रह गए।

ऊँची हील जैसा स्वाभिमान है मेरा,
उनको सताने का वादा है मेरा,
भाव न देने की हिसाब लूऊँगी उनसे,
एक एक बात का जवाब लूँगी उनसे।

सैंडल बना कर पहनूँगी उनको अब से,
अपने पैरों पर रखूँगी उनको कसके,
औरो की तरफ न देखे वो हँसके,
नहीं माने तो हील गड़ा दूंगी कसके।

Advertisements